प्राइमरी स्कूल के टीचर कैसे बने ?

देश में अधिकांस नागरिक एक अच्छी पद प्राप्त करने के लिए मेहनत से पढ़ाई करते है, क्योंकि बहुत से लोग इस प्रकार के होते है, जो इंजीनियर, डॉक्टर या वकील में अपना करियर बानना चाहते है, उनमे से कुछ लोग ऐसे होते है जो सरकारी प्राइमरी टीचर या प्राइमरी स्कूल मास्टर की नौकरी को ज्वॉइन करना चाहते है | टीचर की नौकरी को हमारे भारत मे प्रथम स्थान दिया गया है क्योंकि बच्चों का गुरु बनना कोई आसान कार्य नही है कुछ लोग तो टीचर इसलिए बनना चाहते है, कि वो अपना ज्ञान साझा कर सके और स्वयं का ज्ञान को और बढ़ाते रहें।

एटीएम कार्ड के लिए एप्लीकेशन कैसे लिखे ? RTO kaise bane ?  How to overcome laziness?आलस दूर कैसे करें ?


इसलिए अध्यापक या टीचर (Primary ka teacher) बनना बहुत ही दुर्लभ बात होती है | टीचर भी कई चरणों से बन सकते है, जिनमे से कुछ टीचर बड़े उम्र के बच्चों के अध्यापक बनते है, तो और कुछ प्राइमरी कक्षा के बच्चों के टीचर बन कर निकलते है, | प्राइमरी कक्षा के टीचर सरकारी टीचर भी होते है और प्राइवेट टीचर भी होते हैं | इसलिए यदि आप प्राइमरी कक्षा के टीचर बनने के विषय में जानना चाहते है, तो यहाँ पर आपको प्राइमरी कक्षा के मास्टर कैसे बने , योग्यता , वेतन के बारे में पूरी जानकारी विस्तार पूर्वक दी जा रही हैं।

पढाई में मन कैसे लगाए ?

Primary Teacher Kaise Bane


यदि आप प्राइमरी कक्षा के टीचर बनना चाहते है, तो आपके भीतर गुड क्वालिटी होना बहुत ही आवश्यक है, क्योंकि प्राथमिक कक्षा के अध्यापकों को छोटे-छोटे बच्चों को शिक्षा देना होता है, जिसके लिए उनके भीतर रचनात्मकता, विश्वनीयता, धैर्यवान, ज्ञान, दया भाव, नेतृत्वता, कुछ नया सिखने की इच्छा, ज्यादा से ज्यादा सिखाने की आदत, विनम्र वाणी आदि चीजे एक प्राथमिक अध्यापक के भीतर होना बहुत ही जरूरी है | इसके उपरांत एक प्राथमिक अध्यापक बनने के लिए आपके पास कुछ योग्यता होनी भी बहुत ही आवश्यक होता है | इसके बाद प्राथमिक अध्यापक बनने वाला व्यक्ति कक्षा 1 से 5 तक, TGT कक्षा 6 से 10 तक और PGT कक्षा 11 से 12 तक पढ़ा सकता है |

एनआईए क्या है ? NIA Officer कैसे बने ? RTO kaise bane ? How to overcome laziness?आलस दूर कैसे करें ?

प्राइमरी स्कूल के टीचर बनने के लिए योग्यता


1. 12th पास करे


प्रथम चरण में शिक्षक बनने के लिए अभ्यर्थी को 12वी में सफलता पूर्वक पास होना बहुत जरूरी है। अध्यापक बनने के लिए अभ्यर्थी आर्ट्स , कॉमर्स या साइंस किसी भी सब्जेक्ट से 12वीं पास होना बहुत आवश्यक है |

2. कम्पलीट ग्रेजुएशन हो 


12 वीं क्लियर करने के पश्चात आपके पास ग्रेजुएशन पूर्ण करने का सर्टीफिकेट होना आवाश्यक हैं । जो पूर्णतः 3 वर्ष का होता है। अगर आपने 12वीं क्लियर आर्ट्स के साथ की है, तो आप 12वीं के उपरांत BA degree करके ग्रेजुएशन पूरा कर सकते है और हालाकि आपने 12वीं क्लियर कॉमर्स के साथ की है, तो आप बी.कॉम, बीबीए जैसे कोर्स करने के पश्चात ग्रेजुएशन कर सकते है। हालाकि आपने 12 वीं साइंस स्ट्रीम के साथ क्लियर की है तो आप बीएससी जैसे कोर्स के साथ अपना ग्रेजुएशन पूरा कर सकते है।

Animation कोर्स क्या है ?

3. कम्पलीट बीएड (B.ed)


ग्रेजुएशन पूरा करने के पश्चात आपको बीएड की डिग्री होना आवश्यक है । बीएड का कोर्स 2 वर्ष का होता है। सरकारी अध्यापक बनने के लिए बीएड करना बहुत ही जरूरी होता है |

4. क्लियर TET एग्जाम


सरकारी प्राइमरी विद्यालय अध्यापक बनने के लिए आपको बीएड के पश्चात टेट के परीक्षा में सफलता प्राप्त करना आवाश्यक होता है क्योंकि टेट परीक्षा पास किये बिना आप प्राइमरी अध्यापक नहीं बन सकते है और यदि आपको प्राइवेट अध्यापक बनना है तो बिना टेट के भी प्राइमरी विद्यालय में अप्लाई करना होगा यह सब प्रक्रिया पूरा करने के पश्चात जब भी अध्यापक के लिए सरकारी भर्ती के लिए पोस्ट जारी किये जाए, तो आप इसके लिए अप्लाई कर सकते है। जब तक सरकारी अध्यापक की भर्ती नहीं पड़ती है तो आप किसी प्राइवेट विद्यालय में भी पढ़ाने के लिए अप्लाई कर सकते है।

प्राइमरी स्कूल टीचर बनने के क्या फायदे है? 


1.प्राइमरी अध्यापक को छोटे -छोटे बच्चो को पढ़ाने का अवसर दिया जाता है, जिससे आप अपने काबलियत से छोटे उम्र से ही बच्चों को अच्छे संस्कार दे सके |
2.दूसरी नौकरी की स्वरूप में अध्यापक को अधिक अवकाश भी दी जाती है।

3.अध्यापक को बहुत ही अच्छा सैलरी भी दिया जाता है |

4.अध्यापक को पढ़ाने का समय सुनिश्चित होता है। उसके पश्चात् अधिक कार्य करने की जरूरत भी नहीं रहती है।

5.अन्य सरकारी जॉब की तुलना में प्राइमरी अध्यापक की नौकरी बेहद ही सरल है क्योंकि यह बिलकुल भी तनाव पूर्ण नही होती हैं |

प्राइमरी टीचर की सैलरी कितनी होती है ? (Primary Teach Salary)


प्राइमरी स्कूल या सरकारी शिक्षक का सैलरी 7वे वेतन आयोग (7th Pay Commission) के मुताबिक कम से कम टेबल के द्वारा स्पष्ट किया गया है | इसके उपरांत, प्राइमरी शिक्षक को अतिरिक्त कार्य जैसे मतगणना, पोलियो ड्राप आदि सरकारी कार्यों के लिए अलग से पारिश्रम दिया जाता है और उच्च कार्य के लिए सरकार द्वारा सम्मानित भी किया जाता है |

Pay Scale Rs. 9300 to 35400
Grade Pay Rs 4200
Pay Scale (as per 7th pay commission) Rs. 9300-34800 with Grade Pay of Rs. 4200/-
House Rent Allowances (HRA) Rs 3240
Dearness Allowances (DA) 12% of basic pay
Total Salary (approx) Rs.37000 (approx.)
Pay Scale Rs. 9300 to 35400
Grade Pay Rs 4200
BCA कोर्स क्या है ?

यहाँ पर हमने आपको प्राइमरी स्कूल के अध्यापक (Primary Teacher) बनने के विषय में जानकारी उपलब्ध कराई है | यदि आप इस जानकारी से संतुष्ट है, या फिर इससे समबन्धित अन्य जानकारी लेना चाहते है तो कमेंट करे और अपना सुझाव दे सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का जल्द ही निवारण किया जायेगा | अधिक जानकारी के लिए hindigweb.in पोर्टल पर विजिट कर सकतें हैं।

D.EL.ED कोर्स क्या है ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *